IBPS PO Prelims इंग्लीश विषय में अपना स्कोर बढ़ाने के लिए 5 टिप्स

2
224

प्रिय IBPS प्रतिभागी ,

“IBPS PO Prelims में सफल होने के 10 टिप्स” की अपार सफलता के बाद, काफ़ी स्टूडेंट्स ने हमसे आग्रह किया की कुछ टिप्स इंग्लीश (अँग्रेज़ी भाषा), गणित व रीज़निंग (तर्कशक्ति) विषयो पर भी दीजिए. अंतत:, हम तीन पोस्ट की सिरीज़ पेश कर रहे हैं जो सब्जेक्ट्स पर आधारित होगी. प्रस्तुत है पहली पोस्ट “IBPS PO Prelims इंग्लीश में सफल होने के 5 टिप्स”.

 

जैसा की हमने पिछले लेख में भी बताया था, आपको शुरुआत इंग्लीश विषय से करनी चाहिए. इस बारे में स्टूडेंट्स की मिश्रित प्रतिक्रिया रहती हैं. जहाँ कुछ स्टूडेंट्स के लिए यह भाग का आसान रहता हैं वहीं काफ़ी स्टूडेंट्स के लिए इंग्लीश सबसे बड़ी चुनोती रहता हैं. कट ऑफ पार कर पाना भी मुश्किल हो जाता हैं. सबसे पहले इंग्लीश में पूछे जाने वाले प्रश्नो का विश्लेषण करते हैं –

 

  1. इंग्लीश अनुभाग में कुल 30 प्रश्न होते हैं जिनका विभाजन निम्नलिखित हैं –

रीडिंग कॉंप्रेहेन्षन        10

क्लोज़ टेस्ट            5

सेंटेन्स करेक्षन          5

स्पॉट द एरर           5

फिल इन द ब्लेंक्स      5

पेरा जंबल्स            5

 

  1. हम एक बार फिर दोहराते हैं की अगर आपकी इंग्लीश पर अच्छी पकड़ हैं तो आपको इसे सबसे पहले करना चाहिए. आप इसे आसानी से 10 से 15 मिनिट्स में कर सकते हैं.

 

  1. उन प्रतिभागियों के लिए जिन्हे लगता हैं की उनकी इंग्लीश सामान्य हैं, उन्हे भी हमारी यही सलाह रहेगी क़ी सबसे पहले इंग्लीश का भाग करें. कुछ ध्यान रखने योग्य बाते – सावधानीपूर्वक पढ़े और छोटी छोटी ग़लतियाँ करने से बचे, ख़ासकर पेरा जंबल्स वाले प्रश्नो में विशेष ख़याल रखिए. अगर आप अपने उत्तर से संतुष्ट नही हैं या सवाल स्पष्ट नही हैं तो ऐसे प्रश्नो को छोड़ दे. अगर आप तकरीबन 17+ सवालो का उत्तर दे और आपकी सही प्रतिशत अच्छा हो, तो आप कट ऑफ आराम से पार कर सकते हैं. इंग्लीश भाग में आपको अधिकतम 15 मिनिट लगाने चाहिए, उससे ज़्यादा नही.

 

  1. अगर आपको लगता हैं आप इंग्लीश में वाक़ई काफ़ी कमजोर हैं और यह आपकी विफलता का कारण बन सकता हैं तो हमारा सुझाव हैं की आप इसे दूसरे नंबर पर करे, पहले गणित व तर्कशक्ति (रीज़निंग) में से एक टॉपिक करे और फिर इंग्लीश में सिर्फ़ इतने सवाल करे की आपकी कट ऑफ पार हो जाए. किसी भी सूरत में 15 मिनिट से ज़्यादा समय व्यतीत ना करे. आपका लक्षय 12+ सही उत्तर होना चाहिए. ऐसी परिस्थिति में आपको बाकी दोनो सब्जेक्ट्स में अच्छा स्कोर करना होगा ताकि आपका कुल स्कोर औसत से उपर रहे. परीक्षा की तैयारी करते समय यह देखे ही कोनसे टॉपिक में आप ज़्यादातर सवाल सही और जल्दी से कर पाते हैं, उन टॉपिक पर अपना ध्यान केंद्रित करें. हमारी जानकारी के अनुसार, पेरा जंबल्स के सवाल में ग़लतियों की संभावना काफ़ी अधिक रहती हैं, इसलिए उन्हे छोड़ देना चाहिए. पहले फिल इन द ब्लेंक, सेंटेन्स करेक्षन और क्लोज़ पॅसेज कीजिए और उसके बाद रीडिंग कॉंप्रेहेन्षन में वॉकब्लारी (शब्दावली) के प्रश्न करें. अगर समय बचे तो रीडिंग कॉंप्रेहेन्षन पॅसेज करने की कोशिश करे.

 

  1. परीक्षा के कुछ दिनो पहले इंग्लीश सुधारने के लिए क्या करें –

एक ऐसी इंग्लीश की ऑनलाइन किताब, नॉवेल, मेगज़ीन, अख़बार लें जिसका स्तर आपकी मौजूदा इंग्लीश से थोड़ा उपर हो. एक शब्दकोष साथ रखते हुए उस किताब को रोज़ाना एक घंटे पढ़े. इससे न केवल आपकी इंग्लीश बोलने की क्षमता बढ़ेगी बल्कि आपके पढ़ने की गति भी सुधरेगी, जो ऐसी प्रतियोगी परीक्षाओ में सफल होने के लिए बेहद म्हत्वपूर्ण हैं. इससे आपका शब्दकोष का ज्ञान भी सुधरेगा और अगर आप अख़बार पढ़ रहे हैं तो आपका सामान्य ज्ञान भी बेहतर होगा. कोशिश कीजिए की आप कंप्यूटर या लॅपटॉप स्क्रीन पर ही पढ़े जिससे आप इसके अभ्यस्त हो सके एवं आपकी आँखें और शरीर परीक्षा की परिस्थितियो के अनुसार ढल जायें. इसके अलावा इंग्लीश भाषण सुने या ऐसी  इंग्लीश मूवी / व्रतचित्र देखे, जिसमे हिन्दी अनुवाद भी दिखता हो.  यह आपको सेंटेन्स करेक्षन और पेरा जंबल्स में सहायता करेगा और आपकी मौखिक इंग्लीश क्षमता बढ़ाने में भी मदद करेगा.

 

यह कुछ बातें हैं जो आपको IBPS PO Prelims परीक्षा में इंग्लीश सब्जेक्ट में सहायता करेगी. ऐसे और सुझाव व टिप्स जानने के लिए हमारी वेब साइट www.mockbank.com पर रजिस्टर करे.

 

 

  • thks for this site it is soo help ful for exam

    • Vaibhav

      Your welcome neeraj