भारतीय रिजर्व बैंक ग्रेड बी द्वितीय चरण के वैकल्पिक पेपर का चयन करने के टिप्स

0
211
RBI Grade B Phase 2 Selection Hindi

भारतीय रिजर्व बैंक के ग्रेड बी ऑफिसर्स का ऑनलाइन आवेदन अभी शुरू हुआ है। कई उम्मीदवार वैकल्पिक पेपर (पेपर तृतीय) के लिए तीन विकल्पों में से एक का चुनाव करनेको लेकर पशोपेश में हैं। ये पेपर हैं:

  • वित्त प्रबंधन
  • अर्थशास्त्र
  • सांख्यिकी

विषय का चयन करने में एक भी गलती आपको बाहर कर सकती है। भारतीय रिजर्व बैंक भारत में बैंकिंग में सबसे अधिक वेतन देता है। यह सबसे अधिक प्रतिष्ठित भी है।उम्मीदवारों की दुविधा इस लिए और भी बढ गई है क्योंकि द्वितीय चरण के लिए वैकल्पिक पेपर का चयन पहले चरण से पहले ही करना है।

इस लेख में हम आपको इस विषय में विस्तृत तुलना और सुझाव देंगे। इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप बिभिन्न विषयों में अपनी कुशलता के अनुरूप चुनाव कर सकते हैं। ध्यानरहे की आपके पास अधिक समय नहीं है क्योंकि आपको प्रथम चरण की तैयारी भी करनी है।

यहाँ पर हम आपको तीनों पेपर के बारे में बता रहे हैं, जो आपको निर्णय लेने में मदद करेंगे:

  1. वित्त और प्रबंधन

भारतीय रिजर्व बैंक ने इस पेपर दो श्रेणियों में बांटा है:

क) वित्त

ख) प्रबंधन

वित्त को तीन और वर्गों में बांटा गया है

(क) वित्तीय प्रणाली: मौद्रिक नीति के संदर्भ में सिडबी, एक्जिम, नाबार्ड और भारतीय रिजर्व बैंक का कामकाज।

(ख) वित्तीय बाजार: प्राथमिक और द्वितीयक बाजार के कार्य, उपकरण और हाल की घटनाऐं

(ग) सामान्य विषय: जोखिम बैंकिंग (risk management) क्षेत्र में प्रबंधन, डेरिवेटिव की मूल बातें, वित्तीय समावेशन में प्रौद्योगिकी के उपयोग, कॉर्पोरेट प्रशासन, केंद्रीय बजटऔर मुद्रास्फीति से संबंधित मामले।

आप इसको चुने यदि

  • आप वित्त या प्रबंधन पृष्ठभूमि से आते हैं जैसे कि बीकॉम या बीबीए या वित्तीय बाजार में कार्यकृत रहे हैं।
  • आप इस पेपर में शामिल किये गए अधिकांश वर्गों से परिचित हैं।
  • आप सभी वर्गों को पूरा करने के लिए 2-3 पुस्तक पढ़ कर आसानी से यह सेक्शन कर सकते हों ।

 

  1. अर्थशास्त्र

भारतीय रिजर्व बैंक ने इस पेपर पांच श्रेणियों में बांटा है:

(क) सूक्ष्म अर्थशास्त्र (microeconomics): यह उपभोक्ताओं और कंपनियों के लिए भूमि, श्रम और पूंजी संसाधनों के आवंटन के व्यवहार से संबंधित है।

(ख) समष्टि अर्थशास्त्र (macroeconomics): यह राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं सहित अलग-अलग बाजारों की तुलना, अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन, संरचना,व्यवहार, और निर्णय लेने से संबंधित है।

(ग) अंतर्राष्ट्रीय अर्थशास्त्र (international economics): यह अंतरराष्ट्रीय व्यापार के फायदे और संसाधनों के आवंटन पर उसके प्रभाव के साथ संबंधित है। इसमें खुलीअर्थव्यवस्थाओं और उनसे जुड़े वित्तीय बाजार का अध्ययन भी शामिल है।

(घ) लोक अर्थशास्त्र (public economics): यह सार्वजनिक वस्तुओं, वित्तपोषण, कराधान और सरकारी व्यय नीति के उपकरणों के साथ संबंधित है।

(ई) भारत की अर्थव्यवस्था और विकास से संबंधित मुद्दे (Indian economics): नियोजित विकास मॉडल और उनके परिणामों, जनसांख्यिकी, गरीबी, शहरीकरण, बैंकिंग, बीमा,राजकोषीय नीति में सुधारों से संबंधित है।

आप इसको चुने यदि

  • आप अर्थशास्त्र पृष्ठभूमि (बीए अर्थशास्त्र) से हैं।
  • आपको अर्थव्यवस्था के बारे में पढ़ना पसंद है और आपने अर्थव्यवस्था के कामकाज में अंतर्दृष्टि इकट्ठा किया है। मूल रूप से राजकोषीय नीति पर चर्चा आप आराम से करसकते हैं।
  • आपको पता है कि अंतरराष्ट्रीय अर्थव्यवस्था कैसे संयोजन से काम करती है।

 

  1. सांख्यिकी

यह अनुभाग डेटा एकत्र करने और सार्थक परिणाम पर पहुंचने के लिए विश्लेषण के विभिन्न तरीकों से संबंधित है। इसमें विभिन्न वर्गों संभावना, सांख्यिकीय तरीकों, रेखीयमॉडल, सांख्यिकीय अनुमान, बहुरूपी विश्लेषण, अनुकूलन, नमूना सर्वेक्षण, आर्थिक आंकड़ों, महत्वपूर्ण आँकड़े, संख्यात्मक विश्लेषण और बुनियादी कंप्यूटर अनुप्रयोग लागूहोते हैं।

आप इसको क्यों चुने यदि

  • आपको संख्याओं से प्यार है।
  • आपने पूर्वस्नातक और स्कूली शिक्षा में विस्तार से इन विषयों का अध्ययन किया है।
  • आप निर्णय पर पहुंचने के लिए डेटा का उपयोग करते हैं।
  • आपको रटना पसंद नहीं है
  • यदि आप तकनीकी पृष्ठभूमि से हैं, तो यह अनुभाग आप के लिए एक वरदान साबित हो सकता हैं।

 

कृपया बहुत ध्यान से अपना विकल्प चुने। अगर आपको कोई भी परेशानी आ रही है तो हमसे बेझिझक सवाल करें। हमको उसका जवाब देने में खुशी होगी। धैर्य से पढ़ने के लिएधन्यवाद।