राज्यसभा ने अनुसूचित जाति और जनजाति (अत्याचार निवारण) संशोधन अधिनियम- 2015 पारित किया

ज्यसभा द्वारा अनुसूचित

राज्य सभा ने अनुसूचित जाति और जनजाति (अत्याचार निवारण) संशोधन अधिनियम, 2015 पारित किया। जिसका एक मात्र लक्ष्य अनुसूचित जाति और जनजाति विधेयक 1989 में आवश्यक बदलाव करना हैं ।

इस अधिनियम  के अंर्तगत अनुसूचित जाति और जनजाति के लोगों पर किये जाने वाले अत्याचारों की कुछ अन्य श्रेणियां भी जोड़ी गयी हैं। जो कि इस प्रकार है-

  • किसी भी अनुसूचित जाति व जनजाति के व्यक्ति को जबरदस्ती किसी प्रत्याशी के पक्ष अथवा विपक्ष में मत डालने पर मजबूर करना।
  • किसी भी अनुसूचित जाति अथवा जनजाति के व्यक्ति की भूमि पर कब्जा करना।
  • किसी महिला को बिना उसकी स्वीकृति के हाथ लगाना।
  • अभद्र भाषा में महिला से बात करना।
  • किसी अनुसूचित जाति अथवा जनजाति की महिला को मंदिर में देवदासी बनाकर रखना
  • सार्वजानिक संपत्ति के संसाधनों को प्रयोग करने से रोकना
  • किसी मंदिर अथवा पूजा स्थल पर जाने से रोकना
  • किसी शिक्षण स्थल अथवा स्वास्थ्य केंद्र में जाने से रोकना

अधिनियम में संशोधित किए गए नये प्रावधान इस प्रकार हैं-

  • किसी भी अनुसूचित जाति अथवा जनजाति के व्यक्ति को जूतों की माला पहनाना
  • किसी भी अनुसूचित जाति अथवा जनजाति के व्यक्ति को मानवीय अथवा पशुओं के अवशेष को उठाने पर मजबूर करना अथवा हाथ से मल की सफाई करवाना
  • किसी भी अनुसूचित जाति अथवा जनजाति के व्यक्ति का सामाजिक या आर्थिक बहिष्कार करना
  • जाति का नाम लेकर उसे अपमानित करना
  • इस अधिनियम में यह भी कहा गया कि अगर किसी गैर अनुसूचित जाति या गैर अनुसूचित जनजाति से संबंधित लोक सेवकों द्वारा लापरवाही की जाती हैं तो इस अपराध के लिए उन्हें छह महीने से एक साल तक की कैद की सजा दी जाएगी

रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए आज होंगे मोदी रवाना, 7 अरब डॉलर से अधिक के समझौते होने की संभावना

रूस वार्षिक शिखर सम्मे

  • आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16वें भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए मास्को के लिए रवाना होंगे। इस दौरान मोदी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर बात करेंगे।
  • इसके अंर्तगत भारत के 18 शीर्ष अधिकारी रूसी कंपनियों के 34 सीईओ से मुलाकात करेंगे। साथ ही दोनों देशो के मध्य रक्षा समझौते होने की भी संभावना हैं।
  • भारत के पास जितने भी विध्वंसक हथियार जैसे- टैंक, लड़ाकू विमान, पनडुब्बियां आदि है वे सभी भारत ने रूस से ही लिए हैं।
  • रूस के लिए भारत एक बड़ा हथियार आयातक देश है।
  • इस शिखर सम्मलेन के अंर्तगत मोदी एंटी मिसाइल डिफेंस सिस्टम की भी चर्चा करेंगे।
  • भारत को तीनों सैनाओं के लिए सात फीसदी असलाह अकेले रूस उपलब्ध कराता हैं।
  • विश्व में सभी शक्तियों के एक दूसरे के साथ संबंध बदल रहे हैं ऐसे में भारत को भी अपनी स्थिति को बनाए रखना होगा।

मधेसियों की समस्या हल करने हेतु संविधान में संशोधन करने के लिए सहमत हुई नेपाल सरकार

नेपाल सरकार मधेसियों की समस्या हल करने हेतु संविधान में संशोधन के लिए सहम

  • आख़िरकार मधेसियों की समस्या हल करने हेतु संविधान में संशोधन करने के लिए नेपाल सरकार सहमत हो गई नेपाल की कैबिनेट ने मधेसियों के आंदोलन को समाप्त करने के लिए दो मांगों को पूरा करना का निर्णय लिया।
  • वह दो मांगें इस प्रकार हैं- अनुपातिक प्रतिनिधित्व एवं निर्वाचनक्षेत्र परिसीमन।
  • मधेसी अगस्त से कई मांगो को लेकर आंदोलन कर रहे थे जिनमे से एक मांग थी कि निर्वाचन क्षेत्र भौगोलिक की बजाय जनसंख्या के आधार पर तय हों।
  • मधेशियों को सेना और पुलिस प्रहरी में समान अनुपात में और समावेशी अधिकार मिले।
  • साथ ही उन्हें राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, मुख्यमंत्री, सभा, उप सभा प्रमुख और निकाय सभा प्रमुख जैसे संवैधानिक पदों पर नियुक्ति का अधिकार भी मिले।
  • राष्ट्रीय सभा में हर राज्य से 8 सदस्य मनोनीत करने की बजाय जनसंख्या के आधार पर सदस्यों की संख्या तय हो।
  • साथ ही गैर नेपाली महिला से शादी होने पर पूर्ण नागरिकता के लिए 20 वर्ष नेपाल में रहने की अनिवार्य शर्त में संशोधन हो अथवा उसे समाप्त किया जाए।

स्पेस एक्स द्वारा किया गया फेल्कन 9 रॉकेट का प्रक्षेपण हुआ सफल

सिंगापुर के 6 सेटेलाइट को ले गया पीएसएलवी-सी29

  • स्पेस एक्स ने फेल्कन 9 रॉकेट का सफल प्रक्षेपण करके इतिहास रचा
  • इस रॉकेट का प्रक्षेपण फ्लोरिडा के केप कार्निवल से किया गया
  • इस प्रक्षेपण के बाद पृथ्वी की निम्न कक्षा में ओआरबीकॉम मिशन के अंतर्गत भेजे के उपग्रहों की संख्या 17 हो गई।
  • ऐसा पहली बार हुआ है कि जब कोई रॉकेट उपग्रहों को स्थापित करने के बाद पुनः धरती पर वापस लौटने में सफल रहा है।
  • इस तकनीक के माध्यम से भविष्य में इस तरह के मिशन में आने वालों को खर्च में कमी लाना संभव होगा, क्योंकि इसके माध्यम से एक बार प्रयोग हो चुके रॉकेट को पुनः प्रयोग में लाया जा सकेगा।
  • इससे पहले कम्पनी ने ऐसा ही एक प्रयास वर्ष 2015 के जून महीने में किया था जो विफल रहा था जिससे नासा के 2 टन माल का नुकसान हुआ था।
  • इस प्रक्षेपण में रॉकेट ने 11 उपग्रहों को प्रक्षेपित किया। इन 11 उपग्रहों का सम्बन्ध मशीन टू मशीन वैश्विक संचार के ओआरबीकॉम(ORBCOMM) मिशन से था।

जल्द ही अस्तित्व में आएगी दूसरी सबसे बड़ी मोबाइल कंपनी

आरकॉम, एयरसेल के बीच विलय के लिए

  • रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) अपने मोबाइल कारोबार का खुद से छोटी प्रतिद्वंद्वी कंपनी एयरसेल के साथ विलय करने के लिए बातचीत कर रही है।
  • जिसके अंतर्गत रिलायंस कम्युनिकेशंस ने कहा, ‘आरकॉम ने मैक्सिस कम्युनिकेशंस बरहाद और एयरसेल लिमिटेड की हिस्सेदार सिंधया सिक्युरिटीज एंड इन्वेस्टमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड के साथ 90 दिन की विशिष्ट अवधि पर सहमति जताई है।जिसके तहत आरकॉम और एयरसेल के भारतीय वायरलेस व्यवसाय के संभावित विलय पर विचार किया जाएगा।
  • एयरसेल पांचवीं सबसे बड़ी मोबाइल ऑपरेटर कंपनी है, जिसके ग्राहकों की संख्या 4 करोड है। और आरकॉम देश की चौथी सबसे बड़ी मोबाइल ऑपरेटर कंपनी है।
  • सिंधया सिक्युरीटीज एंड इन्वेस्टमेंट एयरसेल के भी शेयरधारक है।
  • इन दोनों के विलय के बाद आरकॉम के उपभोक्ताओं की संख्या लगभग दोगुना यानी 20 करोड़ हो जाएगी।
  • कंपनी ने इसी महीने कहा था कि वह अपने टावर और फाइबर ऑप्टिक ढांचागत परिसंपत्तिों की बिक्री के लिए निजी इक्विटी कंपनियों टिलमैन ग्लोबल होल्डिंग्स तथा टीजीजी एशिया इंक के साथ बात कर रही है। इन कारोबार की बिक्री जनवरी मध्य तक हो सकती है।

टाटा स्टील अपना यूरोपीय कारोबार ग्रेबुल को बेचेगी

ग्रेबुल को यूरोपीय कारोबार

  • टाटा स्टील लिमिटेड वैश्विक स्तर पर स्टील की गिरती कीमत को ध्यान में रखते हुए अपना लांग प्रोडक्ट्स यूरोपीय कारोबार ब्रिटेन की निवेश कंपनी ग्रेबुल कैपिटल को बेचने की तैयारी कर रही है।
  • वैश्विक स्तर पर जारी इस्पात संकट और स्टील की कीमत के एक दशक के निचले स्तर के करीब पहुंचने के कारण उसकी ब्रिटिश सहयोगी कंपनी टाटा स्टील यूके ने ऑटोमोबाइल, निर्माण, भारी मशीन और पाइप बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाला इस्पात बनाने वाली उसके लांग प्रोडक्ट्स यूरोपीय कारोबार को बेचने के लिए ग्रेबुल कैपिटल के साथ करार किया है।
  • कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (यूरोपीय ऑपरेशन) कार्ल कोएलर ने कहा कि इस्पात उद्योग के लिए यह काफी नाजुक समय है।
  • उन्होंने यह भी कहा कि वे सभी विकल्पों पर काफी गंभीरता से काम कर रहे हैं, ताकि लांग प्रोडक्ट्स यूरोपीय कारोबार को बेहतर भविष्य उपलब्ध करा सकें। साथ ही यह भी कहा कि वह ग्रेबुल कैपिटल क साथ इस बारे में बात भी कर रहे हैं।

सानिया-हिंगिस की जोड़ी को आईटीएफ 2015 का विश्व चैंपियन घोषित किया गया

आईटीएफ ने सानिया-हिंगिस की जोड़ी को 2015 का विश्व चैंपियन घोषित किया

  • अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ (आईटीएफ) ने वर्ष 2015 में सानिया मिर्जा और मार्टिना हिंगिस की जोड़ी को उनके शानदार प्रदर्शन के लिए मंगलवार को महिला युगल विश्व चैंपियन घोषित किया। वर्ष 2000  में विश्व चैंपियन बनी हिंगिस को 15 साल बाद दोबारा आईटीएफ विश्व चैंपियन चुना गया है।
  • इस जोड़ी ने अमेरिकी ओपन की शुरुआत से पिछले 22 मैच जीते हैं और इसमें ग्वांग्झू, वुहान, बीजिंग के अलावा डब्ल्यूटीए फाइनल्स का खिताब भी शामिल है। सानिया और हिंगिस ने साल में 55 मैच जीते, जबकि सिर्फ सात हारे।
  • सानिया और हिंगिस की यह जोड़ी इस वर्ष मार्च में बनी थी और इसके बाद पूरे सत्र में इस जोड़ी का दबदबा देखने को मिला। इस जोड़ी ने विंबलडन और अमेरिकी ओपन के साथ दो ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने के अलावा सात और टूर्नामेंट भी जीते।
  • आईटीएफ ने साथ ही अमेरिका की सेरेना विलियम्स और सर्बिया के नोवाक जोकोविच को 2015 का आईटीएफ विश्व चैंपियन चुना। सेरेना को छठी बार महिला विश्व चैंपियन चुना गया, जबकि जोकोविच पांचवीं बार पुरुष चैंपियन बने।

स्टीव स्मिथ बने ‘प्लेयर ऑफ द ईयर’

स्टीव स्मिथ बने 'प्लेयर ऑफ द ईयर'

  • इस साल 2015 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) के द्वारा दिए गए वार्षिक पुरस्कारों में स्टीव स्मिथ को वर्ष का सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर और टेस्ट क्रिकेटर चुना गया।
  • स्टीव स्मिथ ऑस्ट्रेलिया के चौथे और विश्व के 11वें खिलाड़ी हैं जिन्हें सर गारफील्ड सोबर्स ट्रॉफी से सम्मानित किया गया
  • दक्षिण अफ्रीका के ए.बी.डिविलियर्स को वर्ष 2015 के लिए ओडीआई प्लेयर ऑफ़ द इयर(सर्वश्रेष्ठ वनडे खिलाड़ी) पुरस्कार सम्मानित किया गया।
  • इनसे पहले रिकी पोंटिंग: 2006 और 2007, मिशेल जानसन – 2009 और 2014, माइकल क्लार्क – 2013 ट्राफी जीतने वाले आस्ट्रेलियाई क्रिकेटर हैं। इनके अलावा राहुल द्रविड़ – 2004, एंड्रयू फ्लिंटाफ और जाक कैलिस -2005, शिवनारायण चंद्रपाल -2008, सचिन तेंदुलकर -2010, जोनाथन ट्राट -2011 और कुमार संगकारा -2012 यह ट्राफी पा चुके हैं।

रेलवे रिजर्वेशन, बिल पेमेंट और इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा अब डाक घरों में भी

रेलवे रिजर्वेशन, बिल पेमेंट और

  • रेलवे रिजर्वेशन, बिल पेमेंट और इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा अब डाक घरों में भी दी जाएगी
  • जल्द ही तेज़ रफ़्तार से देशभर के डाकघरो की सूरत बदलने का अभियान शुरू होगा
  • इस अभियान के अंतर्गत डाकघरों में भी आधुनिक बैंको की तरह फ़ोन बैंकिंग,इंटरनेट बैंकिंग जैसी न केवल सेवाएं मिलेंगी बल्कि देश के हर हिस्से में डाक घर की एटीएम मशीन भी लगायी जाएगी जहां से ग्राहक आसानी से नकद निकाल सकेंगे।
  • इस संदर्भ में संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद जल्द ही डाकघरों की सूरत बदलने वाले अभियान की घोषणा करेगे
  • अभियान को सबसे पहले बिहार,उत्तर प्रदेश और राजस्थान के ग्रामीण क्षेत्रो में लागू किया जाएगा
  • सरकार हर डाकिये को हैंड हेल्ड बायोमेट्रिक मशीन देने जा रही है। जो कि एक केंद्रीय सर्वर से जुड़ा होगी। इसका फायदा यह होगा कि जैसे ही डाकिया ग्राहक की तरफ से पैसा जमा करने की सुविधा में इसमें डालेगा पूरे देश में उक्त ग्राहक के खाते में यह राशि दिखने लगेगी। इससे डाक घरों की कार्यक्षमता में भारी वृद्धि तो होगी
  • इसके अलावा डाक घरों में रेलवे आरक्षण, बिजली-पानी व बीमा प्रीमियम के भुगतान, मोबाइल व डीटीएच रिचार्ज और म्यूचुअल फंड आदि की खरीद की सुविधा भी होगी।
  • इस अभियान के अंतर्गत देशभर में एक हज़ार से ज्यादा एटीएम लगाये जाएंगे इससे 15 करोड़ ग्राहको को सुविधा मिलेगी

दिल्ली में आज से लागू होगा ऑड-ईवन फॉर्मूला, वरिष्ठ नागरिक, महिलाओं को मिलेगी छूट!

ऑड-ईवन फॉर्मूला,

  • देश की राजधानी दिल्ली में लगातार बढ़ते प्रदूषण से छुटकारा पाने के लिए एक जनवरी से पंद्रह जनवरी के बीच जो ओड-ईवन गाड़ियों का ट्रायल किया जाएगा वह फॉर्मूला गुरुवार से दिल्ली सरकार लोगों के सामने पेश करेगी।
  • इस ओड-ईवन फॉर्मूले के अंतर्गत वरिष्ठ नागरिकों और महिलाओं को छूट मिलेगी।
  • साथ ही दोपहिया वाहन और एंबुलेंस को भी ओड-ईवन फॉर्मूले में छूट दी जा सकती है ।
  • ऑड-ईवन सिस्टम सुबह आठ से रात को आठ बजे तक लागू होगा।
  • सुबह आठ बजे से पहले और रात को आठ बजे के बाद सभी नंबर की गाड़ियों के सड़क पर चलाने की छूट होगी।
  • इस फॉर्मूला के अंतर्गत 1 जनवरी को ऑड नंबर जैसे 1, 3, 5, 7, 9 नंबर की गाड़ियां चलेंगी वहीं 2 तारीख को 2, 4, 6, 8, 0 नंबर की गाड़ियां चलेंगी। रविवार को गाड़ियों पर ऑइ-ईवन फॉर्मूला लागू नहीं होगा, यानी सभी नंबर की गाड़ियां चलेंगी।

आईआरसीटीसी के साथ आईसीआईसीआई बैंक ने ऑनलाइन टिकट बुकिंग हेतु किया गठबंधन
आईआरसीटीसी के साथ आईसीआईसीआई बैंक ने ऑनलाइन टिकट बुकिंग हेतु किया गठबंधन किया
अब रेल से यात्रा करने वाले यात्री ट्रेन टिकट को बैंक की वेबसाइट पर ऑनलाइन ले सकेंगे।
आईसीआईसीआई बैंक जल्द ही अपनी मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन पर रेल टिकटों की बुकिंग की सुविधा शुरू करेगी।
इसके लिए सबसे पहले उपभोक्ताओं को आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर जाकर रजिस्ट्रेशन करना होगा और इसके बाद बैंक की वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करना होगा तब ही वो इस सुविधा का लाभ उठा सकेगे
ये सुविधा न केवल आईसीआईसीआई  के ग्राहकों  के लिए होगी बल्कि इसके अतिरिक्त किसी भी बैंक के डेबिट या क्रेडिट कार्ड के जरिए इस बैंक की वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन किया जा सकेगा ।
पांच ओटीसी ब्रांड का अधिग्रहण  करेगी पीरामल एंटरप्राइजेज
आज (पीईएल) यानी पीरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड (पीईएल) कंज्यूमर प्राडक्ट्स डिविजन ने  92 करोड़ रपए में ऑर्गेनॉन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और एमएसडी बीवी के पांच ब्रांड के अधिग्रहण की घोषणा की
ऐसा इसलिए किया गया ताकि ओवर-द-काउंटर स्वास्थ्य सेवा खंड की पेशकशें बढ़ाई जा सकें।
इस अधिग्रहण में मुख्य तौर पर पांच ब्रांड शामिल हैं जिनमें नेचरोलैक्स, लैक्टोबेसिल और फारिजीम शमिल हैं। इन ब्रांड की भारतीय उपभोक्ताओं के बीच बहुत मांग है।
कम्पनी के कार्यकारी निदेशक नंदिनी पीरामल ने कहा कि ऐसा करने से हम ओवर द काउंटर बाजार में 2020 तक तीन शीर्ष कंपनियों में शामिल हो सकेगे हैं और इन ब्रांड के पोर्टफोलियो को अपनी कंपनी में शामिल करने से हमें इस उद्देश्य को तेजी से हासिल करने में मदद मिलेगी।’’

2005  से पहले के नोटों को बदलने की समय सीमा बढ़ाई गई – आरबीआई

An employee counts Indian rupee notes at a cash counter inside a bank in Agartala

    • आज भारतीय रिजर्व बैंक ने 2005 से पहले के नोटों को बदलने की समय सीमा और छह महीने बढ़ाकर 30 जून, 2016 कर दी।
    • आरबीआई ने इससे पहले ऐसे नोटों को बदलने की समय सीमा 31 दिसंबर, 2015 तय की थी।
    • सेंट्रल बैंक ने इससे पहले भी कई बार नोट एक्सचेंज करने की समय सीमा बढ़ाई हैं।
    • सेंट्रल बैंक ने कहा कि आरबीआई ने समीक्षा उपरांत ही 2005 से पहले के बैंक नोटों को बदलने की समय सीमा बढ़ाकर 30 जून, 2016 की हैं।
    • सूत्रों के अनुसार पिछले 13 महीने में आरबीआई के क्षेत्रीय कार्यालयों में 2005 से पहले के 164 करोड़ कटे-फटे नोट आए हैं, जिनकी कीमत करीब 21,750 करोड़ रुपए है। इसमें 1,000 रुपए को नोट भी शामिल है। सबसे ज्यादा 100 रुपए के नोट के 87 करोड़ टुकड़े मिले हैं। वहीं, 500 के 56.19 करोड़ और 1,000 रुपए के नोट के 21.75 करोड़ टुकड़े सेंट्रल बैंक के पास जमा किए गए हैं। इसी कारण आरबीआई ने नोट एक्सचेंज करने की अवधि बढ़ा दी है।

संसद भवन का उद्घाटन करेगे पीएम मोदी अफगान में

सद भवन का उद्घाटन करने के लिए अफगान यात्रा करेंगे पीएम मोदी

  • अफगानिस्तान में लोकतंत्र को भारत की प्रतीकात्मक भेंट, यहां का नया संसद भवन बनकर लगभग तैयार है। यह कोशिश हो रही है कि निकट भविष्य में इसका औपचारिक उद्घाटन करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काबुल आएं।
  • भारत सरकार ने युद्ध पीड़ित अफगानिस्तान से दोस्ती और एकजुटता दिखाने के लिए इस भवन को बनाने का काम साल 2007 में शुरू किया था। 31 दिसंबर तक इसे बनकर तैयार हो जाना है।
  • इसे नवंबर 2011 में ही बनकर तैयार होना था, लेकिन इसे बनाने की अंतिम तिथि तीन बार बढ़ानी पड़ी। ताजा समीक्षा में भारत के शहरी विकास विभाग के सचिव मधुसूदन प्रसाद और केंद्रीय लोक निर्माण विभाग ने पाया कि भवन का काम 96 फीसदी पूरा हो चुका है।
  • टीओएलओ न्यूज के मुताबिक, इस भवन के निर्माण पर 4 करोड़ 50 लाख डॉलर का खर्च आना था। लेकिन, बाद में यह बढ़कर 9 करोड़ डॉलर हो गया। इस भवन का डिजाइन मुगल और आधुनिक स्थापत्य कला पर आधारित है। इसका गुंबद एशिया का सबसे बड़ा गुंबद होगा।

चीन जाएंगे नेपाली उप-प्रधानमंत्री कमल थापा ,तेल आयात पर बात करेगे

तेल आयात पर बात कर

  • नेपाल के उप-प्रधानमंत्री कमल थापा इस सप्ताह चीन की आधिकारिक यात्रा पर जाएंगे। इस दौरान वह तेल के आयात पर चर्चा करेंगे, क्योंकि पिछले चार महीने से मधेसी प्रदर्शनकारियों ने भारत-नेपाल सीमा के निकट व्यवसाय केंद्रों पर नाकेबंदी की हुई है।
  • विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता दीपक अधिकारी ने बताया कि थापा की एक सप्ताह की चीन यात्रा बुधवार से शुरू होगी। उन्होंने साथ ही कहा कि उनके साथ एक प्रतिनिधिमंडल भी जायेगा। थापा विदेश मंत्री भी हैं।
  • वह बीजिंग में 25 दिसंबर को अपने चीनी समकक्ष वांग यी से बातचीत करेंगे। हालांकि, चीन के उनके विस्तृत कार्यक्रम को अभी सार्वजनिक नहीं किया गया है।

चीन के शेंझेन में भूस्खलन

चीन के शेंझेन में भूस्खलन के बाद मिट्टी में दबी इमारतें, 59 लोग लापता

  • चीन के सबसे विकसित शहरों में शामिल शेंझेन में एक पहाड़ से मिट्टी खिसकने पर एक औद्योगिक पार्क में हुए भीषण भूस्खलन में रविवार को 22 इमारतें दब गईं और कम से कम 59 लोग लापता बताए जा रहे हैं।
  • चीन की सबसे भीषण शहरी आपदाओं में शामिल इस घटना के बाद 14 लोगों को मिट्टी के नीचे से बाहर निकाला गया। इस आपदा ने दक्षिण चीन के नये औद्योगिक पार्क में एक बड़े इलाके को अपनी चपेट में ले लिया है। हादसे में तीन लोग घायल हुए हैं।
  • दमकलकर्मी, पुलिस और स्वास्थ्य कार्यकर्ता सहित 1500 से अधिक लोग बचाव कार्य में जुटे हुए हैं तथा मलबे में फंसे पीड़ितों की तलाश कर रहे हैं।
  • सरकारी सीसीटीवी की खबर के अनुसार, लापता हुए 59 लोगों में दादा और तीन बच्चे भी हैं। सबसे बड़े बच्चे की उम्र नौ साल जबकि सबसे छोटे की उम्र तीन साल है।
  • चीन के ट्विटर जैसे माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट ‘वेइबो’ पर जारी बयान में शेंझेन निकाय सरकार ने कहा कि भूस्खलन के कारण पास स्थित एक गैस स्टेशन में विस्फोट भी हो गया।
  • सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ की खबर के अनुसार, सुबह 11 बजकर 40 मिनट पर हेंगताईयू औद्योगिक पार्क के भूस्खलन की चपेट में आने के बाद पश्चिम-से-पूर्व प्राकृतिक गैस पाइपलाइन में विस्फोट हुआ, जिसके कारण 1,00,000 वर्ग मीटर से ज्यादा जगह मलबे में दब गया। शाम तक 900 से अधिक लोगों को घटना स्थल से हटाया गया है।
  • सार्वजनिक सुरक्षा मंत्रालय के अग्निशमन ब्यूरो के अनुसार, करीब 20,000 वर्ग मीटर का क्षेत्र मिट्टी से ढका हुआ है। शहर के अखबार डेली सनशाइन की खबर के मुताबिक शेंझेन में बारिश हुई जिसके चलते सड़कों और घटनास्थल पर मिट्टी गीली हो गई है।
  • भूस्खलन में कामगारों की दो डोरमेटरी सहित 22 इमारतें दब गयीं हैं। औद्योगिक पार्क के पास आवासीय क्षेत्र भी स्थित है। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और प्रधानमंत्री ली क्विंग ने फौरन बचाव कोशिशों का आदेश देते हुए कहा कि जान बचाने के लिए कोई कसर नहीं छूटे।
  • शी ने गुआंगदोंग और शेंझेग के अधिकारियों से कहा है कि वे जान के नुकसान को कम करने, घायलों के इलाज तथा पीड़ितों के परिवारों को दिलासा देने के लिए हर संभव उपाय करें।

रेल बजट बनेगा अब यात्रियों के सुझाव से

अब यात्रियों के सुझाव से बनेगा रेल बजट

  • ट्विटर पर गुहार के जरिये यात्रियों की मदद करने वाला भारतीय रेल मंत्रालय अब अपने वार्षिक बजट बनाने में भी आम जनता के ज्यादा सुझाव को शामिल करने की दिशा में आगे बढ़ गया है। उसने अगले रेल बजट के लिए लोगों से सुझाव मांगा है। यदि आप रेल सेवा में कोई बदलाव चाहते हैं या फिर रेल के बुनियादी ढांचे, परिचालन आदि को लेकर आपके पास कोई सुझाव है तो इसे मंत्रालय तक पहुंचा सकते हैं।संभव है कि आपकी मांग व सुझाव पर अमल हो जाए। इसके लिए आपके पास 15 जनवरी तक का समय है।
  • कोई भी व्यक्ति भारतीय रेल की वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन सुझाव दे सकता है। इसके साथ ही डाक से भी सुझाव भेजने का भी विकल्प है। इसके लिए वेबसाइट से सुझाव फॉर्म डाउनलोड करना होगा। फॉर्म भरने के बाद रेलवे बोर्ड को पोस्ट करना होगा। लोगों से ट्रेन परिचालन, फुट ओवरब्रिज, रेल लाइन के विद्युतीकरण, रेल लाइन के दोहरीकरण, कंप्यूटराइजेशन सहित कुल 15 बिंदुओं पर सुझाव मांगे गए हैं।
  • इसके बाद रेल मंत्री सुरेश प्रभु और रेलवे अधिकारी इन सुझावों का अध्ययन कर इनको तामील करने पर फैसला लेंगे। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि रेल बजट को ज्यादा व्यवहारिक बनाने के लिए यह कदम उठाया गया है ताकि यात्रियों को इसका लाभ मिल सके। लोगों की राय जाने बगैर बजट में कई ऐसी घोषणाएं कर दी जाती थी, जिसका आम यात्री को बहुत लाभ नहीं मिलता था।
  • सुरेश प्रभु ने अपने पहले रेल बजट में भी सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों के सुझाव मांगे थे लेकिन दायरा काफी सीमित था। इस बार ज्यादा सुझाव मिलने की उम्मीद है। इससे पहले भी सफर के दौरान यात्रियों को ट्रेन में मिलने वाले बिस्तर को लेकर रेलवे ने ऑनलाइन सर्वे कराया था। इसमें मिले सुझाव के आधार पर बिस्तर में बदलाव किया जा रहा है। इसी कड़ी में स्लीपर क्लास में यात्र करने वाले यात्रियों को भी बिस्तर उपलब्ध कराने की योजना शुरू की जा रही है।
  • भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आइआरसीटीसी) के माध्यम से यात्रियों को बिस्तर मिलेगा। इसके लिए यात्रियों को शुल्क चुकाना होगा और सफर में बिस्तर साथ ले जा सकेंगे। इसी तरह से इस वर्ष गर्मी के मौसम में यात्री पखवाड़ा मनाया गया था, जिसमें यात्री सुविधाओं को लेकर यात्रियों से सुझाव लिए गए थे। खानपान व सफाई को लेकर यात्रियों को फोन कर भी सुझाव लेने का अभियान चलाया गया था जिसके आधार पर कई बदलाव भी हुए हैं।

टाटा मोटर्स सभी भारतीय कंपनियों में अव्‍वल, रिसर्च एंड डेवलेपमेंट के क्षेत्र में

रिसर्च एंड डेवलेपमेंट के क्षेत्र में टाटा मोटर्स सभी भारतीय कंपनियों में अव्व ल

  • टाटा मोटर्स को दुनिया की टॉप 50 कंपनियों की सूची में शामिल किया गया है। इस सूची में शामिल होने वाली यह एकमात्र भारतीय कंपनी है। रिसर्च एंड डेवलेपमेंट के निवेश में अव्वल रहने वाली कंपनियों की इस लिस्ट में सबसे पहले नंबर पर जर्मनी की कम्पनी वॉक्सवैगन है। इस लिस्ट को यूरोपीय आयोग ने तैयार किया है। इस लिस्ट में दूसरा स्थान पाने वाली कंपनी सैमसंग है। इस लिस्ट में माइक्रोसॉफ्ट, इंटेल और नोवार्टिस का भी नाम शामिल है।
  • जानकारी के मुताबिक इस लिस्ट में टाटा मोटर्स को 49 वां स्थान प्राप्त हुआ है। पिछले वर्ष इसी लिस्ट में टाटा मोटर्स 104वें नंबर पर शामिल थी। लेकिन बदलते दौर में कंपनी ने रिसर्च और डेवलेपमेंट को लेकर काफी निवेश किया है। इसका ही परिणाम है कि इस बार यह टॉप 50 में शामिल हो सकी है। रिपोर्ट से यह बात भी सामने आई है कि निवेश के मामले में दुनिया की 2,500 कंपनियों की एक बड़ी सूची में भारत की करीब 26 कंपनियां शामिल हैं।

एच-1बी वीजा के लिए देने होंगे 6.6 लाख रुपये

एच-1बी वीजा के लिए देने होंगे 6.6 लाख रुपये

  • तकरीबन सभी भारतीय आइटी कंपनियों को अगले साल एक अप्रैल से अमेरिका से एच-1बी वीजा पाने के लिए 8,000 से 10,000 डॉलर (36 लाख से 6.6 लाख रुपये) का भुगतान करना होगा। इससे इन कंपनियों पर खासा आर्थिक बोझ पड़ेगा।
  • असल में भारतीय आइटी कंपनियों पर केवल 4,000 डॉलर का नया शुल्क ही नहीं लगाया गया है, बल्कि कई अन्य शुल्क भी अमेरिकी संसद ने एच-1बी वीजा आवेदन में जोड़ दिए हैं। जिस कंसोलिडेटेड एप्रोप्रिएशंस एक्ट, 2016 के तहत वीजा शुल्क वृद्धि हुई है, उस पर राष्ट्रपति बराक ओबामा ने हस्ताक्षर कर दिए हैं। इस तरह यह कानून अमल में आ गया है।
  • गौरतलब है कि मूल रूप से एच-1बी वीजा आवेदन शुल्क महज 325 डॉलर है। मार्च, 2005 से इसमें रोकथाम एवं पहचान शुल्क के तौर पर 500 डॉलर और जोड़ दिए गए। फिर एंप्लॉयर सेंसरशिप फीस है, जिसके तहत 25 से अधिक कर्मचारियों वाली कंपनियों को प्रति वीजा आवेदन 1500 डॉलर का भुगतान करना पड़ता है।
  • जिन कंपनियों में 25 से कम कर्मी हैं, उन्हें इसका आधा 750 डॉलर का शुल्क देना होता है। यह राशि अमेरिकी कर्मचारियों को प्रशिक्षण देने के लिए जुटाई जाती है।
  • नए कानून के मुताबिक जिन आइटी कंपनियों में 50 से अधिक कर्मचारी हैं या जिन कंपनियों के 50 फीसद से अधिक कर्मचारी एच-1बी या एल1 वीजा धारक हैं, उन्हें प्रत्येक एच-1बी वीजा आवेदन के लिए 4,000 डॉलर अतिरिक्त भुगतान करना होगा।
  • एल1वीजा के मामले में यह राशि 4,500 डॉलर होगी। इसके अलावा 1,225 डॉलर की प्रीमियम प्रोसेसिंग फीस भी है। इसके अंतर्गत अमेरिकी नागरिकता एवं आव्रजन सेवा 15 कारोबारी दिन के भीतर एच-1बी वीजा पर फैसला करेगा।
  • भारतीय कंपनियां अक्सर अपने कर्मचारियों को अमेरिका भेजने के लिए त्वरित फैसला लेती है, लिहाजा उन्हें प्रीमियम प्रोसेसिंग फीस चुकानी होगी। इसके अतिरिक्त ज्यादातर भारतीय कंपनियां एच-1बी वीजा आवेदन फीस फाइल करने के लिए बतौर अटॉर्नी फीस 1,000 डॉलर से 2,000 डॉलर के बीच भुगतान करती हैं।
  • एच-1बी वीजा आवेदन फीस नॉन-रिफंडेबल होती है। यही नहीं भारतीय पेशेवर जो एच-1बी और एल1 वीजा पर अमेरिका पहुंचते हैं, उन्हें अपने पे रोल के हिस्से के तौर पर सोशल सिक्योरिटी तथा मेडिकेयर का भुगतान भी करना होता है।

BSNL ने नए ग्राहकों के लिए मोबाइल की कॉल दरें 80 प्रतिशत तक घटाईं

एच-1बी वीजा के लिए देने होंगे 6.6 लाख रुपये

  • सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल ने अपने नए ग्राहकों के लिए एक योजना के तहत प्रथम दो महीने के लिए मोबाइल की कॉल दरें 80 प्रतिशत तक घटा दी हैं।
  • बीएसएनएल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक अनुपम श्रीवास्तव ने बताया, ‘कंपनी ने अपना बुनियादी ढांचा चुस्त-दुरुस्त किया है। हमने नए ग्राहकों के लिए मोबाइल कॉल दरें 80 प्रतिशत तक घटाने का निर्णय किया है ताकि वे उन्नत सेवाओं का अनुभव ले सकें।’
  • उन्होंने कहा कि कॉल दरें प्रति मिनट और प्रति सेकेंड दोनों के बिलिंग प्लान में घटाई गई हैं और यह कनेक्शन लेने के प्रथम दो महीने के लिए वैध होंगी। बीएसएनएल का कनेक्शन लेने वाले नए ग्राहक को प्रति सेकेंड प्लान के लिए 36 रुपये और प्रति मिनट प्लान के लिए 37 रुपये का प्लान वाउचर खरीदना होगा।

साल का सबसे बड़ा आकर्षण रहा , दुती चंद का रियो ओलिंपिक टिकट

दुती चंद को रियो ओलिंपिक का टिकट रहा साल का सबसे बड़ा आकर्षण

  • भारतीय एथलेटिक्स के लिए 2015 मिश्रित सफलता भरा रहा, जिसमें 15 एथलीटों का रियो ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई करना और युवा धाविका दुती चंद का वैश्विक संस्था आईएएएफ के खिलाफ ऐतिहासिक मामला जीतना आकर्षण रहा। भारत ने अब तक ओलिंपिक की एथलेटिक्स स्पर्धा में कोई पदक नहीं जीता है, लेकिन अब तक 15 खिलाड़ियों के क्वालीफाई करने के साथ अगले साल रियो ओलिंपिक में भारत के ट्रैक एवं फील्ड दल के बड़ा होने की संभावना है।
  • दिग्गज चक्का फेंक खिलाड़ी विकास गौड़ा ने हाल में ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई किया जब आईएएएफ ने निश्चित संख्या में प्रतिभागी जुटाने के लिए क्वालीफिकेशन स्तर 66 मीटर से घटाकर 65 मीटर कर दिया। गौड़ा ने मई में जमैका अंतरराष्ट्रीय आमंत्रण मीट के दौरान 14 मीटर के प्रयास से यह स्तर हासिल किया था।
  • बीजिंग में अगस्त में हुई विश्व चैम्पियनशिप में हालांकि भारतीय एथलीटों ने निराश किया, जिसमें सिर्फ ललिता बाबर 3000 मीटर स्टीपलचेज में प्रभावी प्रदर्शन करते हुए आठवें स्थान पर रहीं और इस दौरान नौ मिनट 86 सेकेंड का राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया।
  • अमेरिका में रह रहे गौड़ा ने तीसरी बार विश्व चैम्पियनशिप के फाइनल में जगह बनाई, लेकिन 84 मीटर के निराशाजनक प्रदर्शन के साथ नौवें स्थान पर रहे। चीन के ही वुहान में हालांकि विश्व चैम्पियनशिप से दो महीने पहले हुई एशियाई चैम्पियनशिप में भारतीयों ने बेहतर प्रदर्शन किया। भारतीय टीम चार स्वर्ण पदक के साथ कुल 13 पदक के साथ तीसरे स्थान पर रही जो 2007 के बाद उसका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। इस स्पर्धा में भारत के लिए इंदरजीत सिंह (गोला फेंक), गौड़ा, ललिता और टिंटू लुका (800 मीटर) ने स्वर्ण पदक जीते। मैदान के बाहर दुती का मामला छाया जिन्होंने आईएएएफ की हाइपरएंड्रोगेनिज्म नीति के खिलाफ सफलतापूर्वक अपना मामला लड़ा। इस नीति के तहत उन महिलाओं को प्रतिस्पर्धा की इजाजत नहीं मिलती, जिनमें पुरुष हारमोन का स्तर स्वीकृत सीमा से अधिक है।
  • एंड्रोजन का स्तर अधिक होने के कारण राष्ट्रमंडल खेल 2014 की टीम में जगह नहीं पाने वाली दुती ने आईएएएफ की नीति के खिलाफ खेल पंचाट में अपील थी। स्विट्जरलैंड स्थित खेल पंचाट ने इसके बाद अंतिम फैसला लिए जाने तक आईएएएफ की हाइपरएंड्रोगेनिज्म नीति को दो साल के लिए निलंबित कर दिया और दुती को लगभग एक साल के ब्रेक के बाद अपना एथलेटिक्स करियर दोबारा शुरू करने की स्वीकृति दी।
  • वैश्विक संस्था में भारत को महत्वपूर्ण प्रतिनिधित्व मिला जब भारतीय एथलेटिक्स महासंघ के अध्यक्ष आदिले सुमारिवाला को विश्व चैम्पियनशिप से पहले हुए चुनाव में इसका सदस्य चुना गया। पूर्व ओलिंपिक चैम्पियन सबेस्टियन को को इस चुनाव में अध्यक्ष चुना गया। आईएएएफ प्रमुख बनने के एक महीने के भीतर को सदस्य देश के अपने पहले दौरे पर भारत आए। इस बीच राष्ट्रमंडल खेलों में भ्रष्टाचार के दागी अधिकारी ललित भनोट को जून में एशियाई एथलेटिक्स संघ (एएए) का उपाध्यक्ष चुना गया।

नई रक्षा खरीद प्रक्रिया को जारी करेगी सरकार

SC ST vacancies in Armed Forces current affairs

  • नई रक्षा खरीद प्रक्रिया को केंद्र सरकार जनवरी जारी कर देगी। यह मेक इन इंडिया के सिद्धांतों पर केंद्रित होगी। रक्षा मंत्रालय ने खरीद प्रक्रिया को आसान और पारदर्शी बनाने के लिए नया वेबसाइट भी लांच किया है।
  • रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने सोमवार को कहा कि सशस्त्र बलों को अत्याधुनिक उपकरण मुहैया कराने से ज्यादा महत्वपूर्ण खरीद प्रक्रिया हो चुकी है। उनके मुताबिक रक्षा खरीद परिषद दिसंबर के आखिरी या जनवरी के पहले सप्ताह में बैठक कर खरीद प्रक्रिया को अंतिम रूप देगी।
  • इसके तहत 40 फीसद खरीद को मेक इन इंडिया के अंतर्गत करने का लक्ष्य निर्धारित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि खरीद प्रक्रिया से जुड़ी स्थितियां अब बदल रही हैं और सरकार पारदर्शिता के साथ समान अवसर मुहैया कराने की ओर अग्रसर है।
  • रक्षामंत्री के मुताबिक रक्षा उद्योग से जुड़े लोग वेबसाइट पर न केवल सूचनाएं हासिल कर सकेंगे, बल्कि सवाल भी पूछ सकेंगे। उन्हें तीन दिनों के अंदर जवाब मिलेगा।

चौबीसों घंटे बिजली अब हाईड्रीसिटी से

Global solar outlook current affairs

  • वैज्ञानिकों ने ऐसा मॉडल बनाया है, जिससे चौबीसों घंटे बिजली की आपूर्ति संभव हो सकेगी। इसे ‘हाईड्रीसिटी’ नाम दिया गया है। खास बात यह है कि इससे ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन भी नहीं होगा। मॉडल का विचार देने वाले दल में भारतीय मूल के वैज्ञानिक भी शामिल हैं।
  • अमेरिकी विश्र्वविद्यालय पुर्दू के वैज्ञानिक राकेश अग्रवाल के अनुसार ‘हाईड्रीसिटी’ के तहत सौर ऊर्जा से न केवल बिजली पैदा की जा सकेगी, बल्कि गर्म जल से हाइड्रोजन का उत्पादन व संग्रह भी संभव हो सकेगा। सौर पैनल के जरिये पैदा उच्च तापमान के जरिये पानी को गर्म कर उसके जरिये बिजली का उत्पादन करने वाले वाष्प टरबाइनों को संचालित किया जाएगा।
  • इससे तैयार रिएक्टर से पानी से हाइड्रोजन और ऑक्सीजन को अलग करना संभव होगा। संग्रहित हाइड्रोजन का इस्तेमाल रात में पानी को गर्म कर वाष्प से चलने वाले टरबाइनों को संचालित किया जा सकेगा। जब तक टरबाइन चलेंगे बिजली का उत्पादन होता रहेगा।
  • इसके लिए पानी को एक हजार से 13 सौ सेल्सियस उच्च तापमान पर गर्म किया जाएगा। निरंतर उत्पादन प्रक्रिया के तहत दिन में जहां सौर ऊर्जा से बिजली का उत्पादन होगा, हाइड्रोजन व ऑक्सीजन का संग्रह होगा,वहीं रात में टरबाइन आधारित हाईड्रोजन पॉवर उत्पादन की प्रक्रिया चलेगी।

चीन में दो बच्चे का कानून लागू एक जनवरी से

एक जनवरी से चीन में दो बच्चे का कानून

  • दुनिया में सबसे ज्यादा आबादी वाला देश चीन अपनी विवादास्पद परिवार नियोजन नीति में संशोधन के लिए तैयार है। ‘एक परिवार, दो बच्चा’ की नीति को एक जनवरी, 2016 से कानूनी रूप देनी की तैयारी है। गौरतलब है कि साढ़े तीन दशक से ज्यादा समय से चल रही एक बच्चे की नीति को चीन ने हाल ही में खत्म करने का फैसला लिया था।
  • रिपोर्ट के मुताबिक, नेशनल पीपुल्स कांग्रेस की स्थायी समिति के द्वि-मासिक सत्र में संशोधन ड्राफ्ट पेश किया गया है। एक दंपति के लिए दो बच्चों की नीति पर सरकार में सहमति बन चुकी है। नया कानून एक जनवरी 2016 से लागू होने की उम्मीद है। अक्टूबर में सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति ने ‘एक परिवार, एक बच्चा’ की नीति के स्थान पर दो बच्चे की नीति पर आगे बढ़ने का फैसला लिया था। इस फैसले के बाद यह ड्राफ्ट तैयार किया गया है।
  • राष्ट्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार नियोजन आयोग के प्रमुख ली बिन ने कहा कि यह फैसला तेजी से बुजुर्ग हो रही देश की आबादी में संतुलन के लिए लिया गया है। फैसले को लागू करने के लिए परिवार नियोजन कानून में संशोधन करना होगा। अभी के कानून में एक बच्चे की नीति पर चलने वाले दंपति को कई तरह के प्रोत्साहन दिए जाते हैं। नई नीति के आने के बाद भी वर्तमान ‘एक बच्चा नीति’ के तहत परिवार नियोजन अपना चुके लोगों को मिलने वाले लाभ पर प्रभाव नहीं पड़ेगा।

सैप ब्लाटर और माइकल प्लातिनी पर आठ साल का प्रतिबंध लगाया फीफा ने

फीफा ने सैप ब्लाटर और माइकल प्ला

  • विवादों में घिरे फीफा के एक नैतिक पंचाट ने सोमवार को सेप ब्लाटर और माइकल प्लातिनी पर यह कहकर आठ साल का प्रतिबंध लगा दिया कि उन्होंने प्लातिनी को 20 लाख स्विस फ्रैंक्स के भुगतान के मामले में अपने पदों का दुरुपयोग किया था।
  • विश्व फुटबॉल के दो सबसे शक्तिशाली व्यक्तियों के खिलाफ इस फैसले से दुनिया के इस सबसे लोकप्रिय खेल में चल रहा गोरखधंधा फिर सुखिर्यों में आ गया।
  • ब्लाटर और प्लातिनी को हर तरह की फुटबॉल गतिविधि से तुरंत प्रभाव से प्रतिबंधित कर दिया गया। 79 बरस के ब्लाटर का करियर इससे लगभग खत्म हो गया, जबकि अगला फीफा अध्यक्ष बनने की प्लातिनी की उम्मीदों पर भी लगभग पानी फिर गया।
  • फीफा की 1998 से कमान संभाल रहे ब्लाटर पर 50,000 स्विस फ्रैंक्स और यूएफा के निलंबित प्रमुख तथा फीफा उपाध्यक्ष प्लातिनी पर 80,000 फ्रैंक्स का जुर्माना लगाया गया। अदालत द्वारा जारी बयान में कहा गया कि दोनों ने अपने अधिकारों का दुरुपयोग किया।
  • फीफा 2011 में प्लातिनी को ब्लाटर द्वारा अधिकृत 20 लाख स्विस फ्रैंक्स के भुगतान की जांच कर रहा था। उन्होंने कहा कि यह बतौर सलाहकार 1999 से 2002 तक उनके काम की एवज में दिए गए थे। फीफा की अदालत ने दोनों के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप खारिज कर दिया, लेकिन उन्हें हितों के टकराव का दोषी पाया। इसने कहा, ना तो लिखित बयान में और ना ही सुनवाई के दौरान ब्लाटर इस भुगतान का कोई वैधानिक आधार बता सके।
  • प्लातिनी को भी हितों के टकराव का दोषी पाया गया। अदालत ने कहा, प्लातिनी पूरी विश्वसनीयता और नैतिकता के साथ काम करने में नाकाम रहे। वह अपने फर्ज के प्रति लापरवाह रहे। वह फीफा के नियामक ढांचे और कानून का सम्मान करने में विफल रहे। ब्लाटर और प्लातिनी को अक्टूबर में अस्थायी तौर पर निलंबित कर दिया गया था, जब स्विस अभियोजकों ने 2011 में धन के हस्तांतरण की आपराधिक जांच शुरू की थी। ब्लाटर के खिलाफ आपराधिक जांच चल रही है, जबकि प्लातिनी संदिग्ध और गवाह के बीच में हैं। दोनों ने कुछ गलत करने से इनकार किया है। ब्लाटर ने पिछले गुरुवार फीफा मुख्यालय में आठ घंटे सुनवाई में भाग लिया, जबकि प्लातिनी ने इसका बहिष्कार किया था।
  • चार साल पहले किए गए भुगतान के समय ब्लाटर चौथी बार फीफा अध्यक्ष का चुनाव लड़ रहे थे और प्लातिनी ने बाद में उनका समर्थन किया था, लेकिन फिर वह उनके खिलाफ हो गए थे। ब्लाटर और प्लातिनी फीफा के अपीली पंचाट, खेल पंचाट या स्विस सिविल कोर्ट में किसी भी प्रतिबंध को चुनौती दे सकते हैं। ब्लाटर अपने सम्मान के लिए लड़ेंगे, जबकि प्लातिनी की फीफा अध्यक्ष बनने की उम्मीदों पर इस प्रतिबंध ने पानी फेर दिया है।

ब्रैंडन मैक्कलम ने किया संन्यास का ऐलान(न्यूजीलैंड टीम के कप्तान), नहीं खेलेंगे टी-20 वर्ल्ड कप

न्यूजीलैंड टीम के कप्तान ब्रैंडन मैक्कलम ने किया संन्यास का ऐलान, नहीं खेलेंगे टी-20 वर्ल्ड कप

  • न्यूज़ीलैंड टीम के कप्तान ब्रैंडन मैक्कलम फरवरी 2016 में क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास ले लेंगे। इस बात का ऐलान मैक्कलम ने खुद किया। ऑस्ट्रेलिया की टीम जब अगले साल न्यूज़ीलैंड के दौरे पर होगी तभी मैक्कलम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे।
  • 34 साल के इस खिलाड़ी ने यह भी ऐलान किया कि वह मार्च में होने वाले विश्व टी-20 का हिस्सा नहीं होंगे। अपने डेब्यू से लेकर अब तक लगातार 99 टेस्ट मैच खेलने का रिकॉर्ड रखने वाले मैक्कलम ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने 100वें टेस्ट मैच में इस बात का ऐलान करना चाहते थे, लेकिन कुछ ही दिनों में टी-20 के लिए न्यूज़ीलैंड टीम का ऐलान होने वाला है और वह किसी अन्य खिलाड़ी की जगह नहीं रोकना चाहते। 20 फरवरी से क्राइस्टचर्च में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वह अपने करियर का आखिरी टेस्ट मैच खेलने उतरेंगे।

टॉल फ्री ‘आईवे नेशनल हेल्पडेस्क’  का आरंभ किया सरकार ने (दृष्टिबाधित व्यक्तियों के लिए)

सरकार-ने-दृष्टिबाधित-व्यक्तियों-के-लिए-टॉल-फ्री-‘आईवे-नेशनल-हेल्पडेस्क
Blind students take part in 203rd Birth Anniversary celebrations of Louie Braille, organised by National Federation of the Blind, at Central College, in Bangalore on Wednesday. –KPN
  • नि:शक्तजन अधिकारिता विभाग के सचिव लव वर्मा द्वारा 21 दिसंबर 2015 को नई दिल्ली स्थित पर्यावरण भवन में दृष्टिहीन तथा दृष्टिबाधित लोगों के लिए ‘आईवे नेशनल हेल्पडेस्क ’आरंभ किया गया।
  • आईवे नेशनल हेल्पडेस्क एसेल फाउंडेशन, टेक महिंद्रा फाउंडेशन तथा हैन्स फाउंडेशन जैसे संगठनों के समर्थन से स्कोर फाउंडेशन की पहल है. अब भारत के दृष्टि बाधित नागरिक टॉल फ्री नंबर 1800-300-20469 पर आईवे नेशनल हेल्पडेस्क को कॉल करके अपनी सूचनाओं का जवाब प्राप्त कर सकते हैं. इस प्लेटफ़ॉर्म पर प्रशिक्षित काउंसलर सूचना साझा करेंगे और प्रसांगिक पेशेवर समाधान के साथ कॉलर से जुडेंगे।
  • नि:शक्तजन अधिकारिता विभाग के सचिव लव वर्मा द्वारा 21 दिसंबर 2015 को नई दिल्ली स्थित पर्यावरण भवन में दृष्टिहीन तथा दृष्टिबाधित लोगों के लिए ‘आईवे नेशनल हेल्पडेस्क ’आरंभ किया गया।
  • आईवे नेशनल हेल्पडेस्क एसेल फाउंडेशन, टेक महिंद्रा फाउंडेशन तथा हैन्स फाउंडेशन जैसे संगठनों के समर्थन से स्कोर फाउंडेशन की पहल है. अब भारत के दृष्टि बाधित नागरिक टॉल फ्री नंबर 1800-300-20469 पर आईवे नेशनल हेल्पडेस्क को कॉल करके अपनी सूचनाओं का जवाब प्राप्त कर सकते हैं. इस प्लेटफ़ॉर्म पर प्रशिक्षित काउंसलर सूचना साझा करेंगे और प्रसांगिक पेशेवर समाधान के साथ कॉलर से जुडेंगे।

22 दिसंबर रहा राष्ट्रीय गणित दिवस

22 दिसंबर को ‘राष्ट्रीय गणि

  • भारत में प्रत्येक वर्ष 22 दिसम्बर को महान गणितज्ञ श्रीनिवास अयंगर रामानुजन की स्मृति में ‘राष्ट्रीय गणित दिवस’ के रूप में मनाया जाता है । इस वर्ष भी 22 दिसंबर 2015 को ‘राष्ट्रीय गणित दिवस’ (National Mathematics Day) के रूप में मनाया गया।
  • भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने 22 दिसंबर 2012 को चेन्नई में महान गणितज्ञ श्रीनिवास अयंगर रामानुजन की 125वीं वर्षगांठ के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में श्रीनिवास रामानुजम को श्रद्धांजलि देते हुए वर्ष 2012 को राष्ट्रीय गणित वर्ष एवं रामानुजन के जन्मदिन 22 दिसंबर को राष्ट्रीय गणित दिवस घोषित किया था।
  • श्रीनिवास रामानुजन का जन्म 22 दिसम्बर 1887 को मद्रास से 400 किलोमीटर दूर ईरोड नगर में हुआ था।  इनकी गणना आधुनिक भारत के उन व्यक्तितत्चों में की जाती है, जिन्होंने विश्व में नए ज्ञान को पाने और खोज़ने की पहल की।
  • रामानुजन की आरम्मभिक शिक्षा कुम्भकोणम के प्राइमरी स्कूल में हुई। उसके बाद से वर्ष 1898 में उन्होंने टाउन हाई स्कूल में प्रवेश लिया और सभी विषयों में बहुत अच्छे अंक प्राप्त किए।यहीं पर रामानुजन को जी. एस. कार की गणित पर लिखी पुस्तक पढ़ने का अवसर मिला।इसी पुस्तक से प्रभावित हो उनकी रूचि गणित में बढ़ने लगी और उन्होंने गणित पर कार्य करना प्रारंभ कर दिया।युवा होने पर घर की आर्थिक आवश्यकताओं की आपूर्ति हेतु रामानुजन ने क्लर्क की नौकरी कर ली, जहां वह अक्सर खाली पन्नों पर गणित के प्रश्न हल किया करते थे। एक दिन एक अँग्रेज़ की नजर इन पन्नों पर पड़ गई जिसने निजी रूचि लेकर उन्हें ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के प्रो. हार्डी के पास भेजने का प्रबंध कर दिया।प्रो. हार्डी ने उनमें छिपी प्रतिभा को पहचाना जिसके बाद उनकी ख्याति विश्व भर में फैल गई। इनकी गणित के क्षेत्र महत्वपूर्ण भूमिका है ।
  • श्रीनिवास रामानुजन के गणित पर लिखे लेख तत्कालीन समय की सर्वोत्तम विज्ञान पत्रिका मं प्रकाशित होते थे। अथक परिश्रम के कारण रामानुजन अस्वास्थ्य रहने लगे और मात्र 32 वर्ष की आयु में ही उनका भारत में निधन हो गया।उनके निधन के पश्चात् उनकी 5000 से अधिक प्रमेयों (थ्योरम्स) को छपवाया गया और उनमें से अधिकतर को कई दशक बाद तक सुलझाया नहीं जा सका। रामानुजन की गणित में की गई अदभुत खोजें आज के आधुनिक गणित और विज्ञान की आधारशीला बनी।संख्या-सिद्धान्त पर रामानुजन अद्भुत कार्य के लिए उन्हें ‘संख्याओं का जादूगर’ माना जाता है। रामानुजन को “गणितज्ञों का गणितज्ञ” भी कहा जाता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here